दुतावास के वाहन में तोड फोड के बाद नेपालीयों ने फैलाया बार्डर पर तनाव

0
997

महाराज गंज  29  नवम्बर ( मोहम्मद आरिफ )  महराजगंज के सोनौली बार्डर पर लगातार नेपाल द्वारा तनाव बढाया जा रहा है जिसको लेकर दोनो तरफ तनाव फैला हुआ है इसी क्रम में नेपाल में खाध्य पदार्थ लेजाने वाले भारतीय वाहनों के ड्राईवर भी डरे सहमें रहते है और इन दिनों बार्डर पार करने से भी कतराते रहते है इसी क्रम में सोनौली कस्टम भी ट्रकों को टोकन देकर नेपाल भेज रही है।
वीओं- भारत व नेपाल सिमा पर लगातार गतिरोध बढता जा रहा है और नेपाली सरकार भारत पर अन्तः विवाद को भारत सरकार का सर्मथन मान कर गृहयुद्व में मद्वेशियों का सहयोग करनें का आरोप बार बार लगा रही है और भारत सरकार का संयुक्त राष्ट्र संघ से शिकायत करनें पर भी एतराज जताते हुए मद्वेशियो का सर्मथन करनें का आरोप लगाते हुए नेपाल में पहले भारतीय मिडीया टीवी चैनलों को बैन लगाकर लगभग 42 चैनलों को केबल आपरेटर द्वारा काट दिया गया अब एक बार फिर नेपाल सरकार नें भारत के बिरूध एक कडा फैसला सुनाते हुए भारतीय फिल्मों को नेपाल में चलने से रोक लगाकर भारत पर आरोप लगाया है कि भारत नेपाल मद्वेश का सर्माथक बना हुआ है और वह नेपाल के संविधान का मद्वेशियो के सहयोग से विरोध कर रहा है और किसी तरह नेपाल के मद्वेश को मिलाना चाहता है जबकि इस तरह के किसी भी सर्मथन का भारत सरकार लगातार विरोध कर रहा है और नेपाल आरोप मढते रह रहा है
जिसमें पुरी तरह से नेपाल मद्वेश पिस रहा है और वह नेपाल सरकार से संविधान परिर्वतित करनें और उन्हे समान नागरिक का दर्जा देनें की मांग को लेकर लगातार आन्दोलन कर रहे है और सरकार पर चीन के नेतृत्व में कार्य करनें व पहाडी मुल के लोगों के पक्ष में कार्य करनें तथा 51.07 प्रतिशत अबादी के साथ सौतेला रवैया अपनानें का आरोप नेपाल मद्वेस के नेता हृदेस त्रिपाठी नें लगाया है।
फाइनल वीओ- नेपाल का मद्वेस आन्दोलन व सरकार का अपना निर्णय कही ना कही नेपाल सरकार के लिए सरदर्द बन गया है और अपनी निर्णय का समीक्षा करनें के बजाए नेपाल सरकार है कि भारत पर आरोप मढ रही है जिसकी वजह से मद्वेशियों ने भारतीय खाद्य पदार्थो को नेपाल ले जाने से नाका बन्दी कर रोक रहे है और सरकार से अपनी मांगे मनवानें का दबाव बना रहे है पर सरकार है कि अपनी गलती देखने और सुधार करनें के विपरित भारतीय सरकार व मिडीया पर आरोप लगा कर अपने दायित्वों से भाग रही है।
बाईट- हृदेस त्रिपाठी