हॉस्पिटल गेट पर महिला का प्रसब

0
764

कन्नौज तिर्वा 26अक्टूबर (सुरजीत सिंह कुशवाहा) रविवार को कोतवाली क्षेत्र के गांगेमऊ गांव निवासी अशोक कुमार की पत्नी कुसमा देवी को प्रसव पीड़ाहुई। परिजन कस्बे के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पर लेकर पहुंचे।वहां पर संसाधन के अभाव गेट पर ही प्रसव हो गया। भर्ती करने को लेकर तीमारदारों व स्टाफ कर्मियों में नोकझोंक भी हुई। अस्पताल में कोई डाक्टर मौजूद न होने से स्टाफ नर्सों ने प्राथमिक उपचार के बाद प्रसूता को घर भेज दिया। इसी तरह अस्पताल में दोपहर को खानपुर निवासी कुलदीप की पत्नी रंजना देवी, मटकेपुर्वा निवासी श्रीकृष्ण की पत्नी रीमा देवी व अंबेडकर नगर निवासी सुरेंद्र की पत्नी नीलम देवी का प्रसव स्टाफ नर्स अर्चना देवी ने कराया। उनके सहयोग में अस्पताल के चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी रहे। अस्पताल कर्मियों ने बताया कि महिला चिकित्सक छुट्टी के दिन नहीं आती है। छुट्टी के दिन इमरजेंसी के वक्त डाक्टरों को बुला लिया जाता है। प्रभारी चिकित्सा अधीक्षक डा. जेजेराम ने बताया कि कन्नौज में क‌र्फ्यू लगा होने के कारण महिला डाक्टर नहीं आ सकी होंगी। स्टाफ नर्सों की तैनाती है तथा डाक्टर सुपरविजन करते हैं।अस्पताल की हालत खस्ताअस्पताल में प्रसूताओं के लिए जर्जर हालत में बेड पड़े हैं। उन पर चादर भी नहीं पड़ पाती। संसाधन के अभाव में अस्पताल में रात को मरीज नहीं रूकते हैं। प्रसव होने के तीनघंटे बाद भी घर को चले जाते हैं। गंभीर हालत में उन्हें उनको मेडिकल कालेज भेज दिया जाता। अस्पताल परिसर में आपरेशन थिएटर के पास में कूड़े के ढेर भी लगे थे। प्रदेश सरकार भले ही जच्चा-बच्चा के बेहतर इलाज के लिए करोड़ों रुपए पानी की तरह बहा रही हो। इसके बावजूद प्रसूताओं को फायदा नहीं मिल पा रहा है। इसकी बानगी नगर के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पर देखने को मिली। संसाधन के अभाव मेंअस्पताल गेट पर ही प्रसव हो गया। इसको लेकर तीमारदारों व स्टाफ कर्मियों में नोकझोंक हो गई। काफी कहासुनी के बाद प्राथमिक उपचार के बाद जच्चा-बच्चा को घर भेज दिया गया।