सिख धर्म के धार्मिक पर्व की तारीको में हुई तबदीली के कारन सिख कौम में भारी रोष पाया गया 

0
304

अमृतसर 29 जनवरी (गिल धर्मवीर) सिख धर्म के धार्मिक पर्व की तारीको में हुई तबदीली के कारन सिख कौम में भारी रोष पाया जा रहा है.  दरसल इस बार अनोखे अमर शहीद बाबा दीप सिंह जी का जनम दिहाडा 26 जनवरी की बजाये, 27 जनवरी को मान्या गया इस के साथ ही इस से पहले दशम पिता साहिब श्री गुरु गोबिंद सिंह महाराज का जनम दिवस जनवरी की बाजए  25 दिसम्बर को   मनाया गया वहीं इन तरीको में हुए बदलाव से आहात हो कर आज अमृतसर की एक धार्मिक संस्था  जीवन जागृति संस्था के प्रधान गुरजीत सिंह संधू की अगवाई में एक मांग पत्र जथेदार श्री अकाल तख़्त साहिब को दिया गया  इस मामले में सिख संस्था ने दुखी ह्रदय के सतह इस के लिए अपना दुःख ज़ाहिर किया साथ ही उन का कहना है की केलेंडर की तारीको को बदलाव कर के आयोजन किये जा रहे है और हर कोई त्यौहार दो बार मनाया जा रहा है और केलेंडर को हर साल क्यूँ बदला जा रहा है इस मामले में वेह अकाल तख़्त साहिब से जवाब मांग रहे है ,और इस बीच वेह लोगों से अपील करते है की वेह उनका साथ देवही संस्था का कहना है के अगर  श्री अकाल तख़्त साहिब से उन को इन्साफ न मिला तो वह इस मामले को लेकर हाईकोर्ट में भी जायेगे, वहीँ इस मामले आम संगत का कहना है की अज वेह हरी मंदिर साहिब में नतमस्तक होने आये थे और उन्होंने इस विचार को सुना और वेह उन के साथ आये अहि साथ ही एक आम संगत को इस से काफी पर्देशानी होती है साथ ही जो गुरु साहिब के जनम या ज्योति ज्योत दिहाड़े है उन के बारे में पता नहीं चलता साथ ही अगर  हम अपने जन्म दिवस एक दिन पर मना सकते है तो गुरु साहिब के जनम दिवस पर ऐसा अक्युजं किया जता है और इस को एक किया जाए  वहीँ इस बीच पहली बार किसी धार्मिक संस्था ने इस  तारिक विवाद के मामले में एक मांग पत्र जथेदार श्री अकाल तख़्त साहिब को दिया है जिस के ऊपर आने वाले समय में यह देखना होगा की जथेदार इस मामले में क्या  फैसला  करते है |