श्यामपुर में पूर्वी गंग नहर टूटने से बाढ़ जैसे हालात,स्कूलों में भगदड़,क्षेत्रों का हवाई सव्रेक्षण

0
230

हरिद्वार से करीब 10 किलोमीटर की दूर श्यामपुर गाजीवाली गांव के निकट पूर्वी गंग नहर की पटरी टूटने से श्यामपुर और गाजीवाली क्षेत्र में बाढ़ जैसे हालात हो गये.

देहरादून 4 सित्म्बर (सागर चन्ना) गांवों में अचानक घुसे पानी से ग्रामीण बुरी तरह सहम गये. लोग बचने के प्रयास करने के लिए सुरक्षित स्थान की ओर भागने लगे. स्कूलों में भगदड़ मच गई. मुख्यमंत्री हरीश रावत व मुख्य सचिव राकेश शर्मा ने बाढ़ग्रस्त क्षेत्रों का हवाई सव्रेक्षण किया.

राष्ट्रीय राजमार्ग पूरी तरह बाधित हो गया. राष्ट्रीय राजमार्ग पर तेज जल प्रवाह के कारण दोनों ओर यातायात पांच घंटे से भी अधिक समय तक बाधित रहा.  ग्रामीणों के घरों में पानी भर गया. सैकड़ों बीघा खेती जलमग्न हो गई. बुधवार की सुबह करीब 11 बजे हरिद्वार से निकलकर नजीबाबाद-बिजनौर की ओर से जाने वाली पूर्वी गंगनहर का तटबंध हरिद्वार से करीब 10 किलोमीटर की दूर श्यामपुर गाजीवाली गांव के बीच में अचानक टूट गया.

जिसके बाद दोनों गांव भयंकर बाढ़ की जद में आ गये. नहर तटबंध टूटने से क्षेत्र के ग्रामीणों में हडकंप मच गया. क्षेत्र के स्कूल, अस्पताल, घर व मन्दिर पानी से लबालब हो गए. लोग बचने के लिए सुरक्षित स्थान की तलाश में इधर से उधर बच्चों व परिवार सहित भागने लगे. नहर का तटबंध टूटने की सूचना मिलते ही जिला प्रशासन में भी हड़कंप मच गया.

करीब दो घंटे बाद तक कोई भी बड़ा अधिकारी मौके पर नहीं पहुंचा. जब तक कोई कुछ समझ पाता नहर का पानी नेशनल हाइवे-74 पर विकराल बाढ़ के रूप में आ गया. जिससे नेशनल हाइवे पूरी तरह बंद हो गया. दोनों ओर कई किलोमीटर तक वाहनों की लाइन लग गई. पुलिस प्रशासन द्वारा हरिद्वार से बिजनौर की ओर जाने वाले ट्रैफिक को लक्सर व मुजफ्फरनगर की ओर रवाना किया.

मौके पर मौजूद उत्तर प्रदेश सिंचाई  विभाग पूर्वी गंगनहर के अधिकारी आरपी अग्रवाल का कहना था कि नहर के किनारे कमजोर होने के कारण नहर पटरी टूटी है. एसडीएम प्रत्यूष सिंह ने कहा कि प्राथमिकता हाईवे को सुचारु करने की है. जिसके काफी जद्दोजहद के बाद साढे पांच बजे के बाद ही राजमार्ग खुलवाया जा सका.

उन्होंने बताया कि ग्रामीणो को राहत पहुंचाने का कार्य जिला प्रशासन द्वारा किया जा रहा है. पुलिस, जल पुलिस के साथ ही एनडीआरएफ की टीम भी मौके पर पहुंच चुकी है. राहत कार्य जारी है. पूर्वी गंगनहर की नहर पटरी टूटने के बाद मौके पर जिला प्रशासन की ओर से जिलाधिकारी हरीश्चन्द्र सेमवाल, वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक स्वीटी अग्रवाल, एसडीएम प्रत्यूष सिंह, तहसीलदार दिनेश मोहन उनियाल, अधीशासी अभियंता पुर्वी गंगनहर आरके अग्रवाल, एसडीओ गौतम के अलावा जेई व विभागीय  कर्मचारी भी मौके पर उपस्थित रहे.

CNI