योजनाओं का लाभ पात्रों को ही दिलायें,समाज कल्याण आयुक्त 

0
164

हरदोई 25 अक्टूबर ( लक्ष्मी कांत पाठक )आयुक्त समाज कल्याण उ0प्र0 सम्प्रदि नोडल अधिकारी चन्द्र प्रकाश ने आज अपने दो दिवसीय जनपद भ्रमण के दौरान विकास खण्ड हरियावंा, पिहानी तथा टड़ियावां के सभागार में क्षेत्र के प्रधानों से संवाद स्थापित किया तथा शासन की योजनाओं की जानकारी दी।  उन्होने कहा कि गांव की समस्यायें प्रधान स्वयं अच्छी तरह समझते हैं और पात्र तथा अपात्रों के बारे में अच्छी तरह जानते हैं । उन्होने कहा कि आवास, शौचालय, पेंशन आदि योजनाओं का लाभ पात्रों को ही दिलायें तथा गांव में क्या-क्या विकास कार्य कराये जा सकते हैं। इसके बारे में जिला प्रशासन व शासन को अपने सुझाव भेजें।  आयुक्त ने कहा कि गांव में आय का सबसे बड़ा साधन खेती है और ग्रामीण किसान खेती पर ही निर्भर करते हैं। उन्होने कहा कि किसान गन्ने की खेती के साथ-साथ सरसों, मूंग, आलू, प्याज व लहसुन की खेती कर अपनी आय को दोगुना कर सकते हैं। उन्होने प्रधानों से कहा कि अपने क्षेत्र के ग्रामीणों को अपने खेत की मिट्टी का मृदा परीक्षण अवश्य कराने को कहें और मृदा कार्ड के अनुसार ही खेतों में खादों का प्रयोग करें।  उन्होने कहा कि पानी की समस्या को देखते हुये गांव के पुराने तालाबों का जिर्णाेद्धार अति आवश्यक है। इसलिये प्रधान अपने गांव के पुराने तालाबों का चिन्हाकन करें और जिन तालाबों पर लोगों द्वारा अवैद्य कब्जा कर लिया गया है उसे हटवाकर पुनः तालाबा का निर्माण करायें। उन्होने कहा कि किसान अपना धान सरकारी बिक्री केन्द्रों पर ही बिक्री करें तथा बिचौलियों द्वारा किसी भी प्रकार की हरकत करने पर शिकायत दर्ज करायें ताकि ऐसे लोगांे के विरूद्ध कड़ी कार्यवाही की जा सके। राशन/मिटटी तेल के वितरण की शिकायत पर आयुक्त ने जिला पूर्ति अधिकारी को निर्देश दिये कि गांव में राशन एवं मिटटी के तेल वितरण में सुधार लायें अन्यथा कोटेदारों पर कार्यवाही करें। आवास/शौचालय के निर्माण के लिये बालू की समस्या पर आयुक्त ने कहा कि शीघ्र की बालू की समस्या दूर की जायेगी। जानवरों मे मुंहपका, खुरपका तथा गलाघोंटू की बीमारी के संबन्ध में उन्होने मुख्य चिकित्साधिकारी को निर्देश दिये कि गांव के जानवरों का शतप्रतिशत टीकाकरण करायें। उन्होने प्रधानों से कहा कि वह प्रतिदिन अपने क्षेत्र के सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र, प्राथमिक स्कूलों का भ्रमण करें तथा स्वास्थ्य सेवाओं के साथ-साथ स्कूलों में बच्चों को दी जा रही शिक्षा की गुणवत्ता को भी परखें।  आयुक्त ने जिला कार्यक्रम अधिकारी को निर्देश दिये कि गांव की धात्री, गर्भवती महिलाओं तथा कुपोषित एवं अतिकुपोषित बच्चों को नियमित रूप से पुष्टाहार वितरण किया जाये। उन्होने कहा कि प्रधान गांव का मुखिया होता है और उनकी जिम्मेदारी होती है कि अपने क्षेत्र के गांव में स्वास्थ्य, शिक्षा, स्वच्छता, विकास आदि सभी योजनाओं पर विशेष ध्यान देकर क्षेत्र के लोगों को लाभान्वित करें। आयुक्त ने ब्लाक टड़ियावंा के प्रागण में फाइकस पौधे का रोपण भी किया।  बैठक में मुख्य विकास अधिकारी आनन्द कुमार, मुख्य चिकित्साधिकारी डा0पी0एन0चतुर्वेदी, जिला विकास अधिकारी राजितराम मिश्र, जिला पूर्ति अधिकारी सुनील कुमार, डीपीआरओ सुनील कुमार पाण्डेय, डीसी मनरेगा राजनाथ प्रसाद भगत, खण्ड विकास अधिकारी अनिल कुमार जौहरी तथा टड़ियावां के खण्ड विकास अधिकारी ए0के0शुक्ला सहित अन्य अधिकारी मौजूद रहे।