भोपाल पहुंचने से पहले ही अध्यापक गिरफ्तार

0
322

अशोकनगर। अध्यापकों द्वारा अपनी मांगों को लेकर सप्ताहभर से चलाए जा रहे आन्दोलन पर अब प्रशासन की सख्ती नजर आने लगी है। शुक्रवार को भोपाल में आयोजित अध्यापकों की महारैली में शामिल होने जा रहे अध्यापकों को पुलिस द्वारा जिलेभर में गिरफ्तार कर लिया गया है। आजाद अध्यापक संघ द्वारा जिले भर में करीब दो हजार अध्यापकों को गिरफ्तारी का दावा किया है। इनमें जिला मुख्यालय पर अध्यापकों की गिरफ्तारी का दौर गुरुवार की रात से जारी हुआ। गांधी पार्क चौराहे पर धरने पर बैठे अध्यापकों को वहां से हटाने व गिरफ्तार करने के लिए भारी पुलिस बल पहुंचा। पुलिस की सख्ती को देखकर कई अध्यापक भाग निकले। जबकि कई अध्यापक पुलिस की गिरफ्त में आ गए। इसके बाद भी पुलिस की कार्रवाई नही थमी और अध्यापक भी अपने आंदोलन से दूर नही हटे। अध्यापकों ने अपनी निर्धारित रणनीति के तहत शुक्रवार को भोपाल में आयोजित महारैली में शामिल होने के लिए रूप रेखा पहले से ही तैयार कर ली थी। और निर्धारित कार्यक्रम के तहत अध्यापक सुबह 4 बजे से रेलवे स्टेशन पर जोधपुर-भोपाल फास्ट पैसेंजर से भोपाल रवाना होने के लिए पहुंचे। इससे पहले ही पुलिस ने उन्हें रेलवे स्टेशन पर गिरफ्तार कर लिया। अध्यापक भोपाल न पहुंच सकें इसकी तैयारी के लिए रेलवे स्टेशन पर भारी पुलिस बल तैनात किया गया था। जहां पुलिस द्वारा अध्यापकों की पहचान कर उन्हें रक्षित थाने में बनाई गई अस्थाई जेल पर ले जाया गया। सभी गिरफ्तार अध्यापकों को दोपहर बाद उस समय छोड़ा गया जब भोपाल जाने वाली आखिरी ट्रेन ग्वालियर-भोपाल इंटरसिटी निकल गई। पुलिस के अनुसार जिला मुख्यालय पर करीब 150 अध्यापकों को गिरफ्तार करना बताया जा रहा है। जबकि अध्यापकों का आरोप है कि पुलिस ने उनके शांतिपूर्ण आंदोलन को दबाया है। और जबरदस्ती अध्यापकों को गिरफ्तार कर अपराधियों की तरह व्यवहार किया गया।