बादल राग उत्स्व में प्रशंसा का पात्र बनी हिमाचली पहाड़ी चित्रकला

0
382

बादल राग उत्स्व में प्रशंसा का पात्र बनी हिमाचली पहाड़ी चित्रकला

चंडीगढ़ /भोपाल: 8 सितम्बर : आरके  विक्रांत शर्मा :—– भारत भवन भोपाल में चल रहे बादल राग कला उत्सव में पिछले कल हिमाचल प्रदेश की पारंपरिक पहाडी चित्रकला का दिवस था| इसमें हिमाचल कला संस्कृति और भाषा अकादमी के पूर्व सचिव, साहित्यकार सम्पादक डॉ. तुलसी रमण ने ‘पहाडी लाघुचित्रकला और मध्यकालीन काव्य’ विषय पर व्याख्यान दिया | डॉ. रमण ने इससे पूर्व हिमाचली चित्रकारों के पहाडी चित्रों की प्रदर्शनी का भी उदघाटन भी किया | डॉ. तुलसी रमण ने अपने व्याख्यान में कहा कि कला-सौंदर्य के लिए विश्व प्रसिदध पहाडी चित्रकला ने अपनी दीर्घ परम्परा में अनेक पीढ़ियों के चित्रकारों और सौंदर्य शास्त्रीयों  पर अपनी अमित छाप छोड़ी है| उन्होंने कहा कि मध्यकालीन भक्तिधारा उत्तर भारत को दक्षिण की परम्परा से जोड़ने वाली रही है और पहाडी कला के चित्र आज भी देश-विदेश के अनेक संग्रहालयों में हिमाचल की धरोहर के रूप में संरक्षित हैं| डॉ. रमण के व्याख्यान के बाद पहाडी कला गुरू पद्मश्री विजय शर्मा ने पावर प्याइंट के माध्यम से पहाड़ी लघु चित्रों का एक चयन व्याख्या सहित दर्शाया | इस व्याख्यान की अध्यक्षता करते हुए कवि उदयन वाजपेयी ने कहा कि रीतिकालीन काव्य और कला मनुष्य और प्रकृति के सम्बन्ध को दर्शाते हैं और श्रृंगार रस  इस सम्बन्ध को आधार देता है |ये जानकारी शिमला के जाने माने प्रबुद्ध पत्रकार प्रकाश बदल ने उपलब्ध करवाई है ! उल्लेखनीय है कि स्थानीय आदिवासी संग्रहालय में पिछले दस दिनों से हिमाचल के 12चित्रकारों की एक कार्यशाला चल रही थी| विजय शर्मा के निर्देशन में संपन्न हुई इस कार्यशाला में तैयार किए गए चित्र ही इस प्रदर्शनी में दिखाए गए हैं | प्रदर्शनी के उदघाटन के बाद डॉ. तुलसी रमण का भारत भवन के अन्तरंग में पहाडी चित्रकला विषयक व्याख्यान रखा गया था |