बसूली अभियान की आड़ में बिजली अधिकारी कर रहे है अवैध बसूली

0
869

ग्वालियर १५ अक्टूबर [सीएनआई ]-डबरा पहले तो एक ओर आंकलित खपत के अनरगल बिल फिर ऊपर से अधिकारियों की दादागिरी और हिटरशाही से आम उपभोक्ताओं को धौंश बताकर बसूली की जा रही है जो लोग डर के पैसा दे देते है उन्हें अधिकारी छोड़ देते है और जो लोग आंकलित खपत बिल आने के बावजूद भी पैसा नहीं जमा करा रहे है ऐसे लोगों के खिलाफ विद्युत वितरण कम्पनी के अधिकारी अपनी हिटलरशाही के दम पर अवैध बसूली कर रहे है और जिन लोगों ने समय पर पैसा भर दिया है उनके खिलाफ भी चोरी के प्रकरण बनाए जा रहे है । यह आरोप भारतीय जनता पार्टी के अनुसूचित जाति के पूर्व जिलाध्यक्ष बृजमोहन परिहार ने प्रेस को जारी एक विज्ञप्ति में लगाए है ।
श्री परिहार ने विद्युत वितरण कम्पनी के अधिकारियों पर आरोप लगाते हुए विज्ञप्ति के माध्यम से कहा कि विद्युत वितरण कम्पनी का मध्य प्रदेश सरकार के मुखिया शिवराज ङ्क्षसह चौहान बसूली का खाका और उपभोक्ताअेां को दिए जा रहे बिलों को उठाकर देखे तो वितरण कम्पनी के अधिकारियों की हिटलरशाही उजागर हो सकती है।
श्री परिहार ने बताया कि 12 अक्टूबर की दोपहर विद्युत वितरण कम्पनी के अधिकारियों ने लक्ष्मी कॉलौनी में चैकिं ग और बसूली के नाम पर अभियान चलाकर जिन घरों की चैकिंग की उस कॉलौनी में मेरे भी दो मकान है और कम्पनी के नियमानुसार विधिवत मीटर भी लगे हुए है तथा मेरे द्वारा प्रत्येक माह बिल का भुगतान भी किया जा रहा है । एक मकान मेरी पत्नि मीरा परिहार के नाम है । जोू कम्पनी की उपभोक्ता भी है, जिसका मीटर क्रमांक 3453860 है और बिल का भुगतान 15 अक्टूबर को 3106 रूपया जमा किया गया है और दूसरा मकान मेरे पुत्र घनश्याम परिहार के नाम से है मेरा पुत्र भी कम्पनी का उपभोक्ता है जिसका मीटर क्रमांक 3487729 है जिसका बिल भुगतान 16 सितम्बर 2015 को 4471 रूपया जमा किये गये है। लेकिन अधिकारियों ने चैकिंग के नाम पर करीब 100 घरों के अंदर पहुंचकर चैकिंग की, जिसमें कम्पनी के अधिकारियों ने गरीबों के घर की मर्यादाओं को ताक पर रखकर घर मेंं अकेली महिलाओं पर धाक जमाते हुए जबरदस्ती घर के अंदर घुसकर लोड़ चैक किया जो कि नियमानुसार अकेली महिला के घर में घुसना गलत है और श्री परिहार ने यह भी आरोप लगाए कि चोरी के प्रकरण उन्हीं लोगों के बनाए गये है जो लोग अधिकारियों को अवैध रूप से पैसा नहीं दे रहे है और जो  पैसा  पर दे रहे है उनके खिलाफ कोई कार्यवाही नहीं करते और न ही उनके खिलाफ चोरी का प्रकरण बनाते है चैकिंग के समय मैं तथा मेरी पत्नि और मेरा पुत्र घर पर नहीं थे क्योंकि दोनों मकानों में विधिवत रूप से मीटर चालू हालात में लगा हुआ है फिर भी चोरी करने का सवाल ही नहीं है श्री परिहार ने विभाग के अधिकारियों के खिलाफ मानहानि का दावा करने की बात कही है क्योंकि अधिकारियों के द्वारा मुझ जैसे ईमानदार उपभोक्ता के खिलाफ जो सामाजिक छवि धूमिल क ी गई है । इसके लिए मैं न्यायालय की शरण लूंगा।
इनका कहना……
मेरे पुत्र और पत्नि के मकान पर कम्पनी के नियमानुसार सही सलामत मीटर चालू हालत में लगा हुआ है बिल भी हर माह भरे जा रहे है उसके बावजूद भी अधिकारियों द्वारा अवैध बसूली के लिए प्रकरण बनाए गये है जो कि अवैध है। मैं कम्पनी के अधिकारियों के खिलाफ न्यायालय मेंं मानहानि का दावा करूंगा । bm parihar
बृजमोहन परिहार, पूर्व जिलाध्यक्ष भाजपा अनुसूचित जाति मोर्चा