परमात्मा को मानने से नहीं जानने से ही मानव जीवन सफल;प्रचारक श्री नरंजन सिंह

0
415

चण्डीगढ़ 25 दिसम्बर;आरके शर्मा /करण शर्मा ;— जिसप्रकार किसी भी वस्तु या शक्ति के अस्तित्व को मानने मात्र से इन्सान उससे कोई लाभ नहीं उठा सकता ठीक उसी प्रकार परमात्मा को मानने मात्र से नहीं इसे जानने के बाद ही इन्सान सत्य और अंहिंसा के मार्ग पर चल सकता है और अपने मानुष जन्म को सफल बना सकता है, इसे जीते जी जान कर न केवल अपना भला बल्कि दूसरों के लिए भी कल्याणकारी साबित हो सकता है, ये उद्गार आज यहां सेक्टर 45 में हुए विशाल निरंकारी सन्त समागम में हज़ारों की संख्या में उपस्थित श्रोताओं को सम्बोधित करते हुए सन्त निरंकारी मण्डल के प्रचारक श्री नरंजन सिंह, सेवानिवृत आई0ए0एस0 ने व्यक्त किए ।
श्री सिंह ने आगे कहा कि संसार में परमात्मा को मानने वाले बहुत हैं लेकिन वे अपना कीमती समय इसकी चर्चा या इसके नाम का रटन करने में व्यर्थ गंवा रहे हैं और परमात्मा की जानकारी की ओर उनका कोई कभी ध्यान ही नहीं जाता जबकि सभी धार्मिक ग्रन्थों में यह वर्णन किया गया है कि परमात्मा की जानकारी के बाद ही वास्तविक भक्ति आरम्भ होती है । धार्मिक ग्रन्थों के अनुसार परमात्मा की जानकारी के लिए इच्छुक व्यक्ति को ऐसा सन्त खोजना होगा जिसके पास इसकी जानकारी हो । इस समय संसार में परमात्मा की जानकारी निरंकारी बाबा हरदेव सिंह जी महाराज द्वारा कराई जा रही है लेकिन लोग भ्रमों में पड़े होने के कारण इस ओर ध्यान नहीं देते ।
इससे पूर्व चंडीगढ़ के मुखी श्री शाम सुन्दर चावला जी ने श्री सिंह के गले मेे दुपट्टा डाल कर उनका स्वागत किया । इस अवसर पर यहां के जोनल इंचार्ज डा0बी0एस0चीमा व संयोजक श्री मोहिन्द्र सिंह भी उपस्थित थे ।