ट्राइडेंट उद्योग की तरफ कर्ज़े की 2.38 अरब की देनदारी

0
383

-पंजाब स्टेट एग्रो इंडस्ट्रीज कॉर्पोरेशन की तरफ से डिफालटरों की सूची में किया है शामिल

बरनाला 24 अगस्त ( अखिलेश) जिले के मशहूर दो उद्योगपतियों और पहली कतार के राजसी नेताओं का नाम उन डिफालटरों की सूची में शामिल है, जिन की तरफ पंजाब स्टेट एग्रो इंडस्ट्रीज कॉर्पोरेशन से कर्ज़े के रूप में ली गयी करोड़ों रुपए की देणदारियां बकाया हैं।
सम्बन्धित विभागों की तरफ से जारी डिफालटरों की सूची में ट्राइडेंट उद्योग के मालिक राजिन्दर गुप्ता जिन को अकाली -भाजपा सरकार ने पंजाब प्लानिंग बोर्ड का वाइस चेयरमैन बनाया हुआ है की तरफ पंजाब एग्रो इंडस्ट्रीज कॉर्पोरेशन से लिए गए कर्ज़े की मूल रकम समेत २.३८ अरब रुपये का बकाया पेंडिंग है। इसी तरह बरनाला विधान सभा क्षेतर के कांग्रेसी विधायक एवं उद्योगपति केवल सिंह ढिल्लों ने साल १९८९ दौरान ४.४२ करोड़ रुपए का कर्ज़ लिया था, जो आज तक वापिस नहीं किया। बीच की बात कि इन उद्योगिक घरानों का राजसी प्रभाव होने के कारण सम्बन्धित विभाग अधिकारी वसूली लटकाने के लिए मजबूर रहे हैं

यह कहते हैं उद्योगपति –
-ट्राइडेंट ग्रुप के रजिन्दर गुप्ता का कहना है कि पंजाब स्टेट एग्रो इंडस्ट्रीज कॉर्पोरेशन ने यह मामला जो अभिषेक इंडस्ट्रीज के साथ सम्बन्धित है पंजाब -हरियाणा हाई कोर्ट में विचार अधीन है। हम ओ.टी.ऐस. स्कीम के अधीन इसका निपटारा करने के लिए तैयार हैं
-कांग्रेसी विधायक केवल सिंह ढिल्लों का भी कुछ ऐसा ही कहना था कि मैंने पंजाब एग्रो के लिए कोई पैसा नहीं लिया। इस इंडस्ट्रीज के तीन डायरैक्टर बराबर के हिस्सेदार हैं। जिन्होने ४.४२ करोड़ रुपए का कर्ज़ लिया था। यह मामला भी अदालत में विचार अधीन है।
यह कहते हैं किसान नेता –
भारतीय किसान यूनियन डकौंदा के ज़िला प्रधान दर्शन सिंह उग्गोके ने कहा कि किसानों, मज़दूरों और छोटे व्यापारियों की तरफ बैंकों के ले जाए करजे को उगराहने के लिए अधिकारी वर्ग क़र्ज़ाईओं की गिरफ्तारियों के लिए और उन की प्रापरटियों को कुर्क करने के लिए तत्पर रहते हैं परन्तु ऐसे उद्योगपतियों की तरफ न ही कुर्की और न ही इनकी गिरफ्तारी के लिए कोई कदम उठाते हैं। जबकि किसानों का कर्ज़ न -मात्र होता है और उद्योगपतियों की तरफ कर्ज़ राशि करोड़ों -अरबों में होती है।