कन्नौज में प्रधान प्रत्याशी ने बांटी मौत की शराब दो ग्रामीणों की मौत

0
375

कन्नौज (27 नवम्बर )सुरजीत सिंह 24 घंटे बाद प्रधान पद का चुनाव लड़ रहे प्रत्याशियों के भाग्य का फैसला होना है। 28 नवंबर को होने वाली वोटिंग से पहले प्रत्याशी साम-दाम-दंड भेद के साथ नोटों की बारिश कर देर रात समर्थकों के लिए गांवों में मयखाने भी सजा रहे हैं। इत्रनगरी कन्नौज के कोतवाली में देर रात एक प्रधान पद के प्रत्याशी ने समर्थकों को जमकर कच्ची शराब पिलाई। शराब पीने के बाद कई ग्रामीणों की हालत खराब हो गई। एक साथ कई ग्रामीणों की हालत बिगड़ने पर गांव में कोहराम मच गया। सभी के परिजन अलग-अलग अस्पताल लेकर पहुंचे, जिसमें शिवराम सिंह नाम के एक युवक की मौत हो गई। कई ग्रामीणों का उपचार मेडिकल कॉलेज में चल रहा है। पूरे घटनाक्रम की जानकारी मीडिया को तो हो गई लेकिन थाना पुलिस को खबर तक नहीं लगी। समाचार लिखे जाने तक तिर्वा मेडिकल कॉलेज में एक और पीड़ित ने दम तोड़ दिया। मेडिकल कॉलेज चिकित्सकों के मुताबिक कई ग्रामीणों की हालत गंभीर बनी हुई है।

कन्नौज कोतवाली थाना क्षेत्र के सादिकपुर गांव में गुरुवार देर रात एक प्रधान पद के प्रत्याशी ने समर्थकों के लिए दारू-मुर्गा की दावत रखी थी। देर रात तक कई ग्रामीणों ने जमकर दावत उड़ाई। शराब पीने के बाद कई ग्रामीणों की हालत बिगड़ गई। शिवराम सिंह (35) और राजू (25) को उसके परिजन अस्पताल लेकर भागे। जिला अस्पताल में पहुंचने पर चिकित्सकों ने शिवराम सिंह को मृत घोषित कर दिया। राजू की हालत गंभीर देख चिकित्सकों ने उसे मेडिकल कॉलेज तिर्वा के लिए रेफर किया। वहां राजू की हालत चिंताजनक बनी हुई है। ग्रामीणों की मानें तो करीब चार लोग और हैं जिनकी शराब पीने के बाद हालत बिगड़ी लेकिन उनके परिजन अलग-अलग स्थानों पर उपचार करा रहे हैं। शिवराम सिंह के भाई धीरेंद्र ने सिंह बताया कि एक प्रत्याशी ने गुरुवार देर रात कच्ची शराब बंटवाई थी। शराब पीने के बाद से लोगों की हालत बिगड़ने लगी। शिवराम सिंह की मौत अस्पताल जाते समय रास्ते में हो गई थी। पुलिस को सूचना दिए बगैर परिवार के लोग शव को देर रात घर ले आए। शुक्रवार दोपहर एक पीड़ित की तिर्वा मेडिकल कॉलेज में उपचार के दौरान मौत हो गई। दो मौतों के बाद सादिकपुर गांव में मातम छा गया। पूरे गांव में सन्नाटा पसरा हुआ है। कोई भी ग्रामीण कुछ भी बोलने को तैयार नहीं है। सूत्रों की मानें तो मेडिकल कॉलेज समेत कई प्राइवेट अपतालों में भर्ती करीब एक दर्जन लोगों की हालत चिंताजनक बनी हुई है। पूरे मामले में कोतवाल का कहना है कि उनके पास किसी ने घटना की जानकारी नहीं दी। तहरीर मिलने पर वह दोषी लोगों के खिलाफ कार्रवाई करेंगे। मरने वाले व्यक्ति के बारे में भी कोतवाल ने कहा कि सूचना नहीं मिली। गौरतलब है कि कन्नौज में जहरीली शराब पीने से मौत का यह कोई नया मामला नहीं है। कई ऐसे गांव हैं जहां सेटिंग-गेटिंग के जरिए हर दिन सैकड़ों लीटर कच्ची शराब बनाई जाती है। नशा तेज करने के लिए इसमें कई तरह के केमिकल मिलाए जाते हैं। मिश्रण का अनुपात गलत हो जाने पर यह शराब इंसान की जान तक ले लेती है। गौरतलब है कि पंचायत चुनाव से पहले सूबे के डीजीपी जगहमोहन सिंह यादव और उसके बाद आईजी कानपुर जोन आशुतोष पांडेय ने कच्ची शराब का कारोबार करने वालों पर सख्त कार्रवाई का आदेश दिया था लेकिन यहां सबकुछ पुराने ढर्रे पर ही चल रहा है।