कचरा से निजात पाने की आश में लोग

0
427

अशोकनगर। शहर में इस समय कचरा अड्डों से लोगों को आये दिन परेशानी होती है। इसे नपा सफाई अमले का मन माना आलम कहें या फिर क्षेत्रीय जनप्रतिनिधियों की अनदेखी कि नगर में जहां देखों वहां कचरा अड्डों पर मवेशियों को मुहं मारते देखा जा सकता है। जिसके चलते गौवंश को परेशानी में फसने की संभावनाएं बनी रहती हैं। वही कचरा भरा गंदगी में सुअर भी एक हरेक को परेशानी बने रहते हैं। उल्लेखनीय है कि शहर के विभिन्न क्षेत्रों में में जहां देखों वहां कचरे अड्डे नजर आते हैं जिन पर आसपास के क्षेत्रों का भी कचरा नपा कर्मचारी डाल जाते हैं। कायदे से इन कचरा अड्डों से  प्रतिदिन सुबह कचरा उठाया जाना चाहिये लेकिन कचरा उठाना मनमाने अंदाज में चल रहे सफाई अमले की मनमर्जी पर ही निर्भर है। इसी के चलते अनेकों ऐसे स्थान है जहां से नियमित रूप से कचरा नहीं उठाया जाता है, इसी के चलते कचरा अड्डे पर मुहं मारते मवेशी उसे पूरे रास्ते में विखरा देते हैं। जिसके चलते कचरे के रूप में जमी गंदगी पूरे वातावरण को दूषित करती नजर आती है वहीं दिन- दिन भर कचरा अड्डे पर पॉलिथिन पशुओं के पेट में चली जाती हैं। जो की उनके लिये परेशानी साबित होती है यही नहीं कचरा अड्डों पर दिन भर सुअरों का आलम बना रहता है इस  कारण हर किसी को मुसीबत होती है यही नहीं इन आवारा सुअरों के कारण छोटे- छोटे बच्चों पर हमेशा खतरा बना रहता है। कुछ इसी तरह गंज में रामलीला मंच के पास आज भी देखा जा सकता है यह तो बस एक उदाहरण है असल में शहर में चाहें जहां ऐंसी स्थिति आसानी से देखी जा सकती है, अब जबकि नपा कि व्यवस्थाओं की जिम्मेदारी नपा की नई परिषद ने अपना कार्य प्रांरभ कर दिया है। तब उम्मीद की  जाना चाहिये कि सफाई व्यवस्था को लेकर पिछले कई वर्षो से चली आ रहीं परेशानीयों पर विराम लगाने के प्रयास किये जाएगेंं, इन उम्मीदों पर परिषद कितनी खरी उतरती है। यह तो आने वाले समय में ही पता चलेगा। शहर में इन स्थानों पर कचरे के अड्डे देखे जा सकते हैं। सनराईज स्कूल आरोन रोड़ के पास, पुलिया के पास ईसागढ़ रोड़, माता मंदिर रोड़ ओबर बिृज के पास, नगेश्री चौराहे के पास, अम्बेडकर भवन के पास शंकर कॉलोनी अमर शहीद भगत सिंह स्कूल के पास,पछाडीखेड़ा रोड़ डीपी के पास भी कचरे के ढेर लगे रहते हैं।