आदर्श  ग्रामीण विकास का मॉडल रेणुका मेले में रहा लोगों के आकषर्ण को केंद्र

0
702

नाहन 27 नवंबर – धर्मपाल ठाकुर – अन्तर्राष्ट्रीय श्री रेणुका जी मेला में इस वर्ष विभिन्न विभागों द्वारा लगाई गई विकासात्मक प्रदर्शर्नियों में जिला ग्रामीण विकास अभिकरण द्वारा प्रदर्शित आदर्श ग्रामीण विकास का मॉडल लोगों के लिए विशेष आकर्षण का केंद्र रहा। इस मॉडल में गांवों के समग्र विकास को बेहतरीन ढंग से प्रदर्शित किया गया था जिसके देखने के लिए मेले में लोगों कीे भीड़ का नजारा देखते ही बनता था ।

मेला कमेटी द्वारा प्रदर्शनियों की गुणवता की परख के लिए गठित समिति द्वारा दी गई रिर्पोट में जिला ग्रामीण विकास अभिकरण की प्रदर्शनी को सर्वश्रेष्ठ का दर्जा प्रदान किया गया। जबकि उद्यान विभाग की प्रदर्शनी को द्वितीय और सूचना एवं जन सम्पर्क विभाग तथा प्रारंभिक शिक्षा को संयुक्त रूप से तृतीय स्थान प्राप्त हुआ। मुख्य संसदीय सचिव विनय कुमार ने प्रथम, द्वितीय और तृतीय स्थान प्राप्त करने वाले विभागों को मेले के समापन अवसर पर पुरस्कृत किया गया।

उपायुक्त सिरमौर बीसी बडालिया ने डीआरडीए के परियोजना निदेशक तथा परियोजना अधिकारी सहित सभी कर्मचारियों को बधाई देते हुए कहा कि प्रदर्शनी में ग्रामीण विकास विभाग द्वारा कार्यान्वित की जा रही विभिन्न कल्याणकारी योजनाओं को प्रदर्शित ंिकया गया, जिसमें महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारन्टी योजना, एकीकृत ग्रामीण आजिविका मिश्न , प्रधानमंत्री आदर्श ग्राम योजना, मुख्यमंत्री आदर्श ग्राम योजना, इंदिरा एवं राजीव आवास योजनाओं के अन्तर्गत किए गए विकासात्मक कार्यों को फोटों एवं चलचित्र के माध्यम से दर्शाया गया ताकि लोगों को जानकारी हासिल हो सके।

उपायुक्त ने कहा कि ग्रामीण क्षेत्रों के समग्र विकास के लिए अधिकांश योजनाऐं ग्रामीण विकास विभाग द्वारा कार्यान्वित की जाती है ताकि ग्रामीण क्षेत्र में रहने वाले लोगों को मूलभूत सुविधाऐं घरद्वार पर उपलब्ध हो सके। उन्होने कहा कि जलागम परियोजनाओं के माध्यम से जिला में जल, जंगल और जमीन के संरक्षण पर विशेष बल दिया जा रहा है ताकि जलागम परियोजना के माध्यम से वर्षाजल के संग्रहण से एकत्रित जल का उपयोग लोग सिंचाई इत्यादि के लिए कर सके।

उन्होने कहा कि मेले में  जिला ग्रामीण विकास अभिकरण द्वारा लगाई प्रदर्शनी की मुख्यमंत्री श्री वीरभद्र सिंह द्वारा उदघाटन के दौरान काफी सराहना की गई और कहा कि ग्रामीण विकास के मॉडल को सही परिप्रेक्ष्य में प्रस्तुत किया गया है।23